Sat. Sep 25th, 2021
तब जाकर हार बने हैं, भोसड़ी के
Spread the love

कवि ने फूलों से पूछा कि आपने ऐसा क्या पूण्य किया है

जो हार बनकर सजावट और सुंदरता के लिए सजते हो?


हार बने हुए फूलों ने नम्रतापूर्वक जवाब देते हुए कहा,

“गांड में सुई के घाव सहन किए हैं तब जाकर हार बने हैं, भोसड़ी के!”

  •  
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *