Fri. Jul 1st, 2022
Spread the love
*एक बहुत ही पहुंचे हुए संत थे।*
*ध्यान, साधना के जानकार, हमेशा मुस्कुराते रहते थे।*
*आने वाले शिष्य उलटा, सीधा कुछ भी पूछें हमेशा हंस कर जबाब देते थे।*
*गुस्सा तो कभी आता ही नहीं था, गज़ब का धैर्य था*
*उनकी ख्याति दूर दूर तक थी।*
*एक बार एक पत्रकार ने उनका इंटरव्यू लेते हुए पूछा,*
*“बाबा, आप के गुरु कौन हैं?* 🧐
*आपने ये धैर्य, ध्यान और साधना की शिक्षा कहाँ से ली?”*
*संत ने उस पत्रकार की और प्रेम से देखा*
*और साँस छोड़ते हुए, कहा:*
*बेटा, मैने, 20 साल, लेडीज़ सूट 👗और साड़ी के शोरूम मे काम किया है।*