कंजूस बाप ने बेटे को एक नया चश्मा दिया

कंजूस बाप ने बेटे को एक नया चश्मा दिया
Spread the love

कंजूस बाप ने बेटे को एक नया चश्मा दिया, बेटा कुर्सी पर बैठ कर कुछ सोच रहा था…


कंजूस पिता ने आवाज लगाई- क्या पढ़ रहे हो?


बेटा- कुछ नहीं पिता जी
बाप- तो कुछ लिख रहे?


बेटा- जी नहीं पिताजी


बाप- (गुस्से से) तो फिर अपना चश्मा उतार क्यों नहीं देते?

फिजूलखर्ची की आदत पड़ गई है.

You cannot copy content of this page