Sat. May 28th, 2022
ये तो कैंसर की दवाई है
Spread the love

पेशेंट : “डॉक्टर साहब, इस प्रिस्कीप्शन में आपने
जो दवाइयाँ लिखी हैं, उनमे से सबसे ऊपर की
नही मिल रही हैं.😐😕😟


डॉक्टरः ” वो दवाई नही है, मैं तो पेन चलाकर
देख रहा था,चल रहा है कि नहीं…!!


पेशेंट: अबे कमीने…मैं 52 मेडिकल शॉप घूम के
आया हूँ तेरी हैंडराइटिंग के चक्कर में ।😡


साला एक मेडिकल वाले ने तो ये भी कहा! कल
मंगा दूँगा….


दूसरा कह रहा था….ये कंपनी बंद हो
गयी….दूसरी कंपनी की दूँ क्या??

….
तीसरा कह रहा था….इसकी बहूत डिमाण्ड चल
रही है….. ये तो ब्लेक में ही मिल पायेगी!

….
साला चौथा तो बहूत ही एडवांस था…ये तो कैंसर
की दवाई है… कैंसर किसको हो गया??